राजा और बीरबल || Raja Aur Birbal Ki Kahani

राजा और बीरबल || Raja Aur Birbal Ki Kahani

नमस्कार आप सभी का स्वागत है।
आज मै आपके लिए बहुत ही अच्छी story लेकर के आया हूं जो कि आज के समय के हिसाब से बिल्कुल सटीक बैठती है।
तो चलिए हमेशा की तरह आपका समय बर्बाद ना करते हुए इस स्टोरी को जल्दी से जल्दी शुरू करते है।
राजा और बीरबल || Raja Aur Birbal Ki Kahani

एक बार की बात है,बादशाह अकबर अपने महल के आगे टहल रहे थे तभी अचानक उनको अपनी प्रिय रानी को रिझाने का विचार आया 
और विचार ये था कि वो रानी के सामने एक सेव काटेंगे 
काफी तेज गति से और वो भी बिना रुके
उन्होंने आदेश दिया 
अब चूंकि सन्देश राजा का था तो विलंब बिल्कुल भी नही हो सकता था
जल्दी ही राजा के सामने सेव लाया गया 
अब जैसे ही राजा साहब सेब को काटने लगे तो जल्दबाजी में उनकी उंगली कट गई और वहाँ खून निकलने लगा,साथ ही उनको दर्द भी ज्यादा हुआ 

पास में खड़ा बीरबल यह कहने लगा कि महामहिम कोई बात नहीं जो होता है अच्छे के लिए होता है।
अब यह सुनकर राजा अकबर का पारा और ज्यादा चड गया और सातवें आसमान पर चढ़ गया उन्होंने तुरंत आदेश दिया गुस्से ही गुस्से में 

बीरबल को 7 दिनों तक जेल में डाल दिया जाए 
बीरबल फिर भी अपनी बात पर अड़ा हुआ था कि महामहिम जो भी होता है अच्छे के लिए होता है।

2 से 3 दिन बाद राजा अकबर को शिकार करने की सूझी
और कुछ सेनिको को साथ लेकर जंगल की तरफ निकल पड़े
शिकार करते करते राजा आगे चले गए और सैनिक उनसे बिछड़ गए 
अब राजा को जंगल मे आगे की ओर कबीलो का एक समूह दिखाई दिया उस समूह के नजदीक अकबर पहुंच चुके थे
कबीलो के समूह ने राजा को पकड़ लिया और बोले आपकी बलि चढ़ाई जाएगी
राजा डर गया 
लेकिन थोडी ही देर बाद उस समूह में से किसी ने कहा अरे इसकी तो एक अंगुली कटी हुई है 
हम इस खंडित चीज की बलि नही देंगे

राजा दौड़ा दौड़ा बीरबल के पास आया 
और उसको पूरी बात बताई और बोला कि तुमने कहा था कि जो भी होता है वो अच्छे के लिए ही होता है।
लेकिन मैंने तुम्हें बिना गलती के जेल में दाल दिया ये तो मेरी भूल है

बीरबल फिर बोला कि महामहिम ये भी आपने सही किया
राजा हक्का बक्का रह गया 
बीरबल तुम ये क्या बोले जा रहे तो 
बार बार एक ही बात का रट,कम से कम जो गलत हुआ उसे तो गलत बोल दो
अब बीरबल बोला 
कि राजा जी मैं आपका मुख्य सिपाही हूं जहा कही भी आप जाते है मैं आपके साथ हमेशा रहता हूं

राजा ने हामी भरी
बिल्कुल...!
तो फिर जरा सोचिए उस दिन मैं आपके साथ होता तो 
आज बलि किसकी चढ़ि होती

राजा को पूरी बात समझ आ गयी 
अब राजा अकबर बोले
कि बीरबल जो भी होता है अच्छे के लिए ही होता है।

तो दोस्तो क्या आप भी बीरबल की बात से सहमत है या नही कमेंट में अपनी राय जरूर दे

आज के दौर में भी यह बात बिल्कुल सही बैठती है 
हम कभी कभी घर के बड़े लोगो को ये कहते सुनते हैं कि जो भी होता है वो अच्छे के लिए ही होता है 
बात बिल्कुल सही है 
बस हम बेकार में ही परेशान होते है 
की गलत हुआ 
हालांकि जब चीजे हमारे बस में नही होती है फिर भी आदत हमारी वही परेशान होने की रहती है
लेकिन उससे कुछ भी नही होता है 

आने वाला समय ही ये बताता है कि क्या सही था और क्या गलत 
हालांकि गीता में भी लिखा है कि जो भी होता है अच्छे के लिए ही होता है बस तू कर्म किये जा फल की इच्छा मत कर
साथ ही ये भी लिखा है कि कमजोर तेरा वक्त है तू नही...

दोस्तों आशा करता हूं कि ये छोटा सा प्रयास आपको अच्छा लगा होगा और आपको इस पोस्ट से कुछ न कुछ सीखने को जरूर मिलेगा 

मैं चाहता हूं आप जीवन मे सफल बनो खुश रहो
और एक अच्छा जीवन जियो
अब मैं आपसे विदा लेता हूं बहुत ही जल्दी आपसे मुलाकात होगी एक नई कहानी के साथ अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसको आप अपने साथियों के साथ साझा करिए और कमेंट में आपके कोई सुझाव हो तो प्लीज हमें बताइए आपका कीमती समय देने के लिए दिल से शुक्रिया
Read more...
  1. समय का सदुपयोग || Value Of Time In Hindi
  2. कठिन परिश्रम विचार || Hard Work Quotes in Hindi
  3. कोई बार बार अपमान करे तो यह करे Chanakya Niti for Life in Hindi
  4. टालमटोल || Meaning Of Procrastination In Hindi
  5. कही आप के अन्दर तो ये आदते नहीं है? Bad Habits in Hindi
  6. एक काला बिंदु Eye Open Inspirational Story in Hindi
  7. Business And Email Id
  8. दुसरो के बारे में भी सोचिये Raaste Ka  Patthar 
  9. काबिलियत पे शक ना करे Never Doubt Your Strength
  10. दुनिया पागलो ने बदली है Motivational Story In Hindi
  11. भरोसा रखिये Bharosa Rakhiye 
राजा और बीरबल || Raja Aur Birbal Ki Kahani राजा और बीरबल || Raja Aur Birbal Ki Kahani Reviewed by Motivational Keeda on May 03, 2021 Rating: 5

No comments:

Plz do not publish spam comment,yaha koi robot nahi hai comment ko automatically approved kr dega...

Blog Archive

Powered by Blogger.