अंदाज़ा ना लगाए personal opinion best motivational story in hindi

अंदाज़ा ना लगाए personal opinion best motivational story in hindi


अंदाज़ा ना लगाए personal opinion best motivational story in hindi
अंदाज़ा ना लगाए personal opinion best motivational story in hindi

अंदाज़ा ना लगाए

दोस्तों स्वागत है,आप सभी का
आज की ये कहानी आपके जीवन पर गहरी छाप छोड़ने वाली है ।

कहानी का शीर्षक है।

"अंदाज़ा ना लगाए"

कभी कभी हम बिना कुछ जाने या तो अंदाज़ा लगा बैठते है 
या फिर अपने assumption के आधार पर बिना सच्चाई को जाने निर्णय लेते है
और जब चोट खाते है तो life की learning मिलती है ।
एक बार किसी बड़ी company के ceo ने बड़े पद के लिए 
  किसी का interview लेना चाहा,
लेकिन उससे पहले उसको नीचे के अधिकारियों को इंटरव्यू पास करना था ।


उसने सारा process follow किया और अंत मे वह कंपनी के सीईओ के पास जा पहुंचा ।
दोनों डिनर के लिए गए
और सूप order किया गया ।
अब जो घटना घटित होने वाली थी उसी मे learning छिपी हुई है ।
सूप के साथ एक पुड़िया मिलती है,इसको स्वादानुसार
सूप में डाला जा सकता है,
लेकिन उस महानुभवी ने बिना सूप को टेस्ट किये वो पुड़िया सूप मे डाल दी
 और मजे के साथ सूप पिया ।
अंत मे उनकी चर्चा खत्म हुई और वो चला गया

motivtional  story  in  hindi


इसके बाद company के शीर्ष अधिकारी ceo के पास आये और पूछा कि,
जो हमने काबिल आदमी को भेजा था वो आपको कैसा लगा ?
आपने इसको बुलावा पत्र दिया या नही?
Ceo ने कहा कि नही
सारे अधिकारी चोंक गए कि ऐसा क्या हुआ
सीईओ ने कहा,
जब हम सूप पी रहे थे तो उसने वो नमक बिना taste किये कैसे डाला?


Taste करके डालता तो बात समझ आती लेकिन वो तो बिना देखे decision ले गया ।
ऐसे आदमी को मैं कंपनी का head कैसे बना सकता हूं,
ये तो बिना कुछ जाने निर्णय लेता है ।


दोस्तों आपको बात का मर्म समझ आ गया होगा ।
हम भी तो जीवन मे अक्सर यही गलती करते है ।
मुझे पूरी उम्मीद है कि आपको यह कहानी जरूर अच्छी लगी होगी ।

अगर आपके कोई सवाल या जवाब हो तो comment के माध्यम से हमे जरूर बताएं ।
इस कहानी को पढ़ने के लिए और आपका कीमती समय देने के लिए दिल से
शुक्रिया
अंदाज़ा ना लगाए personal opinion best motivational story in hindi अंदाज़ा ना लगाए personal opinion best motivational story in hindi Reviewed by Admin on February 12, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.