हाथी raja ka utsahee hathi


हाथी raja ka utsahee hathi 


हाथी raja ka utsahee hathi
हाथी raja ka utsahee hathi 


नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है आज मैं आपको 
एक कहानी बताऊंगा सुनने के बाद अब खुद ही देख 
लीजिएगा कि यह आपके लिए  कितनी इंपॉर्टेंट हो सकती है
तो चलिए  बिना आपका समय गवा इस कहानी को शुरू करते हैं 

दोस्तो एक बार की बात है एक राजा को शिकार करने का बहुत शौक था
1 दिन राजा अपने सैनिकों के साथ शिकार करने निकला लेकिन
 राजा के साथ अपना हाथी भी गया क्योंकि जब शिकार वजनी हो तो उसे 
हाथी पर लादकर लाया जाता था  राजा का यह मनपसंद हाथी था 
उसका नाम बाला  था तो
सुबह से लेकर शाम तक काफी वक्त गुजर गया लेकिन राजा साहब को कोई शिकार नहीं मिला

सैनिक थक कर हार गए अगले दिन सुबह वापस शिकार करने लगे लेकिन 
तभी घटना घटी
हाथी जो था वह तालाब में नहाने के लिए चला गया और नहाते नहाते वह दल दल के अंदर 
फस गया सैनिको ने उसे  निकालने की बहुत कोशिश की लेकिन वह
 दलदल से नहीं निकल पा रहा था  सभी सैनिक राजा के पास आए और
 उनसे कहा कि हमने बहुत प्रयास किया लेकिन हम हाथी को नहीं निकाल पाए

 तो राजा ने कहा कि ठीक है  मैं बड़े बड़े मंत्रियों को सूचित कर देता हूं 
वह कोई न कोई मार्ग जरूर निकालेंगे तो राजा ने अपने राज्य के और 
आसपास के बड़े बड़े मंत्रियों को सूचित किया कि मुझे आपकी सहायता की जरूरत है तो
 उन मंत्रियों ने कहा कि ठीक है हम आपको पूरी तरह से आश्वस्त करते हैं
 कि यह हाथी थोड़ी देर में तालाब के बाहर आ जाएगा

 तो मंत्रियों ने राजा को कहा कि आप ढोल नगाड़ों का बंदोबस्त कीजिए और
 तालाब के चारों और ढोल नगाड़े बजाइए तो जैसा मंत्री ने कहा वैसे ही तालाब के
 चारो तरफ  ढोल नगाड़े बजाए
और थोड़ी ही  देर बाद ढोल नगाड़ों की आवाज सुनकर के हाथी तालाब से बाहर आ गया

ऐसा क्यों ?

हाथी राजा के साथ जाया करता था युद्ध में
हाथी के अंदर जो शारीरिक क्षमता थी वह  काफी अच्छी थी
 लेकिन उसको उत्साह की कमी थी  इसलिए वह वहां से नहीं
 निकल पा रहा था तो उसके लिए ढोल नगाड़ों की व्यवस्था की गई
 ताकि उसको पता लगे कि मुझे जाना होगा और वह ऑटोमेटिकली निकल के आ गया 

लेकिन इस कहानी से हमें क्या सीख मिलती है यही कि  शारीरिक रूप से 
हम भी मजबूत होते हैं मानसिक रूप से हम भी मजबूत होते हैं लेकिन 
कभी-कभी हमें उत्साह की जरूरत होती है अगर उत्साह  नहीं होगा 

तो हम आगे नहीं बढ़ पाएंगे अगर किसी विशेष परिस्थिति में हम फंस के रह गए
 तो बिना उत्साह के हम आगे नहीं बढ़ पाएंगे
इससे हमें शिक्षा मिलती है
कि उत्साह हमेशा बनाये रखना चाहिए
मुझे उम्मीद है कि आपको भी कहानी अच्छी लगी होगी आशा करता हूं कि आप बाकी की  
कहानियों को पढ़ रहे होंगे आपका कीमती समय देने के लिए शुक्रिया
हाथी raja ka utsahee hathi हाथी raja ka utsahee hathi Reviewed by Admin on January 16, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.