प्रवचन और गुस्सा Pravachan Aur Gussa

प्रवचन और गुस्सा

प्रवचन और गुस्सा pravachan aur gussa
प्रवचन और गुस्सा Pravachan Aur Gussa 



नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है 
आज मैं आपको एक ऐसी कहानी के बारे में बताऊंगा 
इस कहानी को सुनने के बाद आपको लगेगा कि हां इसकी आपको  जरूरत थी
 तो आपका ज्यादा वक्त ना लेते हुए मैं कहानी को जल्दी से जल्दी शुरू कर देता हूं


दोस्तों काफी समय पहले की बात है एक बार एक महात्मा गाँव मे 
 प्रवचन दे रहे थे अपने तीन चार शिष्यों के साथ में बैठे और
धीरे-धीरे उनके प्रवचन में कई शिष्य एकत्रित होने लगे
अब आप जानते हो कि सभी लोगों का स्वभाव अलग-अलग होता है

महात्मा उपदेश दे रहे थे तो बीच में उपदेश देते वक्त एक ऐसी बात थी निकल के आई
 जो कि एक सत्य था और एक शिष्य को यह बात दिल में चुभ गई 
उस वक्त वह खड़ा होकर उन महात्माजी को गंदी-गंदी गालियां देने लग गया
 और वह बुरे बुरे वाक्य बोलने लगा यह  सुनकर बाकी के शिष्य काफी परेशान हुए
 और उन्होंने महात्मा जी से आज्ञा लेनी चाहिए कि आप बताइए कि इस मानव के इस
 दुर्व्यवहार से अगर आपको परेशानी हुई है तो हम इसको मजा चखाते हैं लेकिन
महात्मा ने कहा कि आपको कुछ करने की जरूरत नहीं है 
जो होगा वह आप ही आप देख लेना 


दोस्तों हुआ कुछ कि 2 से 3 घंटे बाद भी उस आदमी का  गुस्सा चरम पर था 
और जैसे ही वह घर पहुंचा उसके मन में उस वक्त यह खयाल आ रहा था कि
 महात्मा जी अपने आप को समझते क्या है वह इस तरीके से कैसे कह सकते है
  तो धीरे-धीरे जब वक्त गुजरता गया उसका गुस्सा शांत होता गया तो 
उसको बाद में यह अपनी गलती का अहसास हुआ और 
 जब सुबह उठा तो  वह पूरी तरह से बदल चुका था और वह उनसे क्षमा याचना
 करने के लिए गया और जब वहां गया तो वहां महात्मा वहा नही थे 


वो दूसरे गांव में चले गए
लेकिन संदेश अच्छा देकर गए
इस कहानी में हमें यह देखने को मिलता है कि अगर लोग आपसे कुछ कहते हैं 
और आप उनको रिप्लाई नहीं करते तो इसका मतलब यह है कि उनकी बात पर
 ध्यान  नहीं दिया आपके पास इतना फालतू समय नही की आप लोगो के बारे
 मे सोचे  वैसे तो इससे आपका ही  नुकसान  है
सामने वाला अगर आपको भला-बुरा कह रहा है उसको क्या नुकसान है
 कोई चीज अगर आपको नहीं पसंद तो आप नहीं लेते


और उस वक्त महात्मा जी ने अपने बाकी की शिष्यों से यही कहा कि
 कोई आपको गाली निकाल ले तो उसका क्या है इससे आप पर तो कोई फर्क
 नहीं पड़ता अगर फर्क पड़ता है इसका मतलब यह है कि सामने वाले ने जो 
आपसे इस तरीके का बर्ताव किया इससे आप पर फर्क नही पड़ना चाहिए


आशा करता हूं कि  इससे आपको काफी कुछ सीखने को मिला होगा तो अगर
 आपको यह कहानी अच्छी लगी हो तो आप इसे बाकी के दोस्तों के साथ भी
 शेयर करिए अच्छा लगता है और अगर इसमें कोई कमियां है तो आप मुझे 
फीडबैक जरूर दीजिए मैं वक्त के साथ-साथ अपनी सारी कमियों को दूर करता हूं 
क्योंकि मेरा यह मानना है कि कोई भी चीज
कभी भी perfect नहीं होती है 

और अगर आप चाहते हो कि मैं इससे भी बेहतर कंटेंट 
आपके लिए लाऊ तो बस आपको सिर्फ इसको शेयर करना है और
 मुझे फीडबैक देना है आपके सलाहों को  हम खुले दिल से अमल करते हैं
तो अपना ख्याल रखिएगा दोस्तों और
बहुत ही जल्द एक नई कहानी के साथ आपसे मुलाकात होगी तब
 तक के लिए अपना ख्याल रखें सुरक्षित रहें फाइनली 
आपका कीमती समय देने के लिए दिल से शुक्रिया
Read more...
  1. दिल को छू लेने वाली कहानी | Heart Touching Story
  2. 21 बेहतरीन विचार जो आपको पढने ही चाहिए | Motivational Thoughts in Hindi
  3. जब तक सफलता हाथ ना आये  तब तक लगे रहो Focus On Your Goal Motivational Story 
  4. हमारी सोच Our Thinking Best Inspirational Story
  5. आलस आपसे क्या छीन सकता है?? Aalsi Aadmi Ki Kahani
  6. आपकी तरक्की कौन रोक रहा है?Aapki Tarakki Kon Rok Raha Hai
  7. एक भिखारी और युवा Motivational Story In Hindi 
  8. चिड़िया का ज्ञान Chidiya Ka Gyaan 
  9. हाथी Raja Ka Utsahee Hathi 
  10. ये कहानियाँ आपको सफल बना सकती है || 3 Best Motivational Story Hindi
  11. Chanakya Niti Quotes in Hindi | चाणक्य के विचार 
  12. Sandeep Maheshwari Motivational Thoughts And Quotes In Hindi 
  13. How to set Goals in Hindi for Life | इस तरह बनाये लक्ष्य 
  14. .डर  के आगे जीत है Bhula De Dar Kuch Alag Kar 
  15. ऐसा हो ही नहीं सकता  Nobody Believe Two Friends Inspirational Story
प्रवचन और गुस्सा Pravachan Aur Gussa प्रवचन और गुस्सा Pravachan Aur Gussa Reviewed by Admin on August 10, 2020 Rating: 5

No comments:

Plz do not publish spam comment,yaha koi robot nahi hai comment ko automatically approved kr dega...

Blog Archive

Powered by Blogger.